जीरो टिलेज मशीन के लाभ, कीमत और सब्सिडी zero tillage machine subsidy

जीरो टिलेज मशीन – यह तकनीक गेहूँ, जौ बिजाई की अति आधुनिक और लाभकारी तकनीक है।

इस मशीन में बीजाई के लिए विशेष रूप से डिजाईन की गई बीज संग उर्वरक डालने की सुविधा होती है ! इस तकनीकी से खेत को हैरो, क्लटीवेटर, सुहागा आदि से खेत तैयार करने की आश्यकता नहीं पड़ती है ! ग्वार, मूंग, कपास, बाजरा, धान के खेतों में सिर्फ प्लेवा करके गेहूँ, जौ की सीधी बिजाई कर सकते हैं।

जीरो टिलेज तकनीक से किसान प्रति एकड़ 4000 से 5000रू बचा सकता है ! यह मशीन किसानों को सरकार द्वारा 50% अनुदान पर भी दी जाती है।

जीरो टिलेज मशीन (तकनीक) के लाभ

1. इस तकनीक से समय, पानी, मज़दूरी ईंधन व धन की बचत के साथ-साथ मशीनी (ट्रैक्टर, हैरो व ड्रिल इत्यादि) की घिसाई भी कम होती है।

2. जीरो टिलेज तकनीक से बिजाई करने के बाद गेहूँ पीली नहीं पड़ती, गिरती नहीं हैं व वर्षा से पपड़ी नहीं बनती।

3. इस तकनीक से 1घन्टे में लगभग सामान्य बिजाई की तुलना में ज्यादा काम होता है।

4. जीरो टिलेज मशीन में बीज व खाद नापने की आधुनिक तकनीक दी गई है ताकि सीड व खाद बराबर मात्रा में खेत में गिरे।

5. इस तकनीक में एक-दो-तीन नम्बर की बजाय सीड गियर सिस्टम से डाला जाता है ताकि 35 कि.ग्रा. या 40 कि.ग्रा. प्रति एकड़ ही डालें।

6. खाद बीज की मात्रा चक नट की सहायता से सैट कर सकते हैं।

7. जीरो टिल मशीन की गहराई कम-ज्यादा कर सकते हैं।

8. पैदावार सामान्य की अपेक्षा ज्यादा आती है।

9. बिजाई के बाद सुहागा (मेज) लगाने की आश्यकता नहीं पड़ती।

जीरो टिलेज मशीन की अनुमानित कीमत

जीरो टिल मशीन की बाज़ार में कीमत ब्राण्ड और लगाये गए मेटेरिअल के आधार पर अंतर हो सकता है ! इसकी अनुमानित कीमत 40000 से 55000 रूपए हो सकती है !

जीरो टिलेज मशीन पर सब्सिडी

किसानो के लिए राज्यों द्वारा सब्सिडी प्रदान की जाती है ! सब्सिडी की दर सभी राज्यों में अलग अलग हो सकती है ! आमतौर पर लघु / सीमांत व् महिला किसानो के लिए सब्सिडी 50 % व् बड़े किसानो के लिए सब्सिडी 40 % होती है !

हरियाणा में सब्सिडी के यहाँ क्लिक करे

मध्य प्रदेश में सब्सिडी के लिए यहाँ क्लिक करे

बिहार में सब्सिडी के लिए यहाँ क्लिक करे

राजस्थान में सब्सिडी के लिए यहाँ क्लिक करे

शेयर करे

1 thought on “जीरो टिलेज मशीन के लाभ, कीमत और सब्सिडी zero tillage machine subsidy”

Leave a comment

error: Content is protected !!